life-cycle-of-human-being

Life cycle of human being
Childhood.
1.childhood is extremely full of joy no fear..
    everything is good for child,  
life-cycle-of-human-being
life-cycle-of-human-being



.Childhood was beautiful, now they have grown up, in childhood, when I went   out to play, I did not know when it was evening !Childhood is also a stage   where there is no fear, no one is getting a coin from someone, falling again &   again, then trying to walk carefully, everything was good to pick up the   maternal grandfather in the lap of injury.


In childhood, we like to hear the sound of birds! The breath sounds, it also gives it inner peace! Which is very important in this part race life! Like keeping the mind calm has become like an art!



1.। बचपन सुंदर था, अब वे बड़े हो गए हैं, बचपन में, जब मैं खेलने के लिए बाहर जाता था, मुझे पता नहीं था कि यह शाम कब थी!
  बचपन भी एक ऐसा चरण है जहाँ कोई डर नहीं है, किसी को किसी से एक सिक्का नहीं मिल रहा है, बार-बार गिर रहा है, फिर सावधानी से चलने की कोशिश कर रहा है, चोट की गोद में नाना को लेने के लिए सब कुछ अच्छा था।

2. बचपन में, हमें  पक्षियों की आवाज़ सुनना पसंद होता  है !, हवा की धीमी धीमी  आवाज़,, ! सांस की आवाज़, भी ये यह आंतरिक शांति देती है! जो इस भाग  दौड़ भरे जीवन में बहुत महत्वपूर्ण है! जैसे मन को शांत रखना एक कला की तरह हो गया है !

Post a Comment

0 Comments