Travelling Like a Thought Generator !

Happiness Travelling!

1. The journey generates a new thought, I am telling here on the basis of my experience, there is no theoretical part in it! Yes, a person must travel once a week, no any hard and rule is that you have to go for a long journey by spending more than your budget, you can swim the travel distance according to your budget.

Whenever traveling, we feel new experiences, new experiences are found, whenever we go to a new place, our conscious mind registers new things, new people are found, when our eyes see something new, So everything starts registering in the mind and a new thought is born, and another new direction of hope is shown,,

BENIFITS-
Things that work to the level of despair, thoughts that cause bad expressions, disturb us again and again! He goes away from the brain for some time, and gets a focus car on new memories on those new things. As soon as the brain gets a new environment in a new place, the brain starts learning about the new and unknown things,
It is only human senses that control a person and his feeling emotions, whenever he sees something bad he starts feeling bad, when he sees good, he starts feeling good in a few moments! Like wise, when we travel, our senses gather together to form a focus! Because of this new thinking is born! We can remove bad feeling! That's when a person moves forward!
As if someone goes on a long journey, even if the journey is for many hours, then at this time make the focus a matter, after some time if you feel boring, you can listen to music, you can also listen to your favorite song! If you have a favorite book, you can read it, even if it is not, you can also read its book!
Whenever you go, decide who your travel companion is! You can listen to the audio book, you will be able to make your life's journey even more enjoyable!
"" "" "" There is a life live well always help someone! "" ""

सुख यात्रा-
यात्रा एक नया विचार उत्पन्न करती है, मैं अपने अनुभव के आधार पर यहां बता रहा हूं, इसमें कोई सैद्धांतिक हिस्सा नहीं है! हां, एक व्यक्ति को सप्ताह में एक बार यात्रा करनी चाहिए, कोई भी कठिन और नियम यह नहीं है कि आपको अपने बजट से अधिक खर्च करके लंबी यात्रा के लिए जाना है, आप अपने बजट के अनुसार यात्रा की दूरी तैर सकते हैं!

जब भी यात्रा करते है तो नए नए अनुभव का एहसास करते हैं  नया एक्सप्रिएंसेस मिलते है , जब भी कोई नयी जगह पे जाते हैं तो हमारा सचेत दिमाग नयी बस्तुओं को रजिस्टर करता ,नए लोग मिलते है , जब हमारी आँखे कुछ नया देखती है तो , तो ये सबकुछ दिमाग में रजिस्टरहोने लगता है और एक नई सोच का जन्म होता है,  और उम्मीद की एक और नई दिशा दिख जाती है,,
लाभ !
निराशा स्तर को काम करता जो बातें, जो विचार ख़राब एक्सप्रेंसेस, बार बार परेशान करते है! वो कुछ समय के लिए दिमाग से हट जाते है, और उन नयी चीजों पे नई मेमोरीज पे फोकस कार पाता है जैसे ही दिमाग को नयी जगह नया वातावरण  मिलता है तो दिमाग उस नयी और अनजानी चीजों  के बारे में जानने में लग जाता !
इंसान की इन्द्रियाँ ही हैं जो इंसान को  और  उसकी फीलिंग इमोशंस कण्ट्रोल करती हैं ,  ,जब भी कुछ बुरा देखते हैं तो बुरा महसूस होने लग जाता है ,अच्छा देखते  हैं तो कुछ ही पल में अच्छा महसूस होने लग जाता है ! वैसे ही जब हम यात्रा करते है तो हमारी इन्द्रियां एक जगह एकत्रित होकर  फोकस बनाती है ! इस वजह  से नयी सोच का जन्म होता है ! खराब अनुभब को हटा पाते हैं ! तभी इंसान आगे बढ़ता है !

जैसे की कोई लंबे सफर पर जाता है , सफर कई घंटों का भी होता तो इस समय फोकस को कैसे बनायें ,, कुछ समय बाद बोरिंग सा मेहसूस हो तो म्यूजिक सकते हो ,अपना पसंदीदा गाना भी सुन सकते हो ! अगर आपकी कोई पसंदीदा किताब है उसको भी पढ़ सकते हो अगर नहीं भी है, तो भी की किताब पढ़ सकते हो !  जब भी जाओ तो तय करके जाओ की आपका यात्रा साथी कौन है !  ऑडियो किताब सुन सकते हो इससे आप अपनी   ज़िंदगी की यात्रा को भी आनन्दपूर्ण बना पाओगे !

 एक ज़िंदगी है अच्छे से जिओ हमेशा किसी Na किसी की मदद करते रहो 🙏🙏🙏 👁️

In here Motivation not Demotivation

Post a Comment

1 Comments

Don't Use to write spam or wrong Words thank you