Where? Is The Key Of Motivation.

 Welcome to www.motivationsign.com if you like this post share to everyone & thank you for visiting here!
The Key Of Motivation (Happiness)
Where? Is The Key Of Motivation.

Where? Is The Key Of Motivation.

.Tools Of Happiness!
 1 When we were childhood, we used to spend most of our time playing, and even if we were hungry to make mischief, then even if we did not get food, we meant by playing, where did the happiness come from in childhood! If mummy, or papa, used to play, then they used to be happy there, it seemed that everything was found! And why not be happy, finally we got what we used to wait for every morning, and whatever it is "is it", even if a quarrel with a friend could not last long, and then being happy again Used to go ahead, when a person is happy, sometimes he makes such commitments which should not be done, then he holds on and weeps.Gradually our mind developed, the power of understanding increased and we moved towards the world of understanding!!

2 The thinking of the present man is becoming very critical about happiness, the reason for this is that we are looking for happiness, where there is no happiness, if it is there, then it is a temperament. Where is a person looking for happiness? The first reason is, money, to walk according to others, then if the same person says"You are the best" Now he is happy to think and be happy, be happy and good car, A house, a good job, not their own on the expectations of others, they have nothing to do with them, how to make a case that it is not even necessary to do the case somewhere but still we do! ,, It is also a source of happiness, but Temperari "For example" A critical condition has come, related with money and you get happy if you get money !


3. Many people have been working hard for many years to get a good job and have been speaking, when I get a good job, I will be happy, if I get the money, I will go to sleep, I will be happy and happiness to an extent. Gets on !! If you get the support job, then you will be happy for a long time, when you go to work everyday, you will get happiness, it feels very good because what was our main goal is fulfilled and what was expected to be fulfilled by ourselves Mind Relax It starts feeling because new culture, new environment, new people, new thinking! And happy life! At least one or 2 months, at least we like to enjoy working, because the mindset that I had kept for a long time has been found !! Then all the things that you were feeling happy with, it slowly turns into a habit !!

4. And then the same room, the same office & the same boss, again become bored with the same job of the job for many years, for which, for many years, they are miserable thinking that when the job is found, you will be happy when you get the job. Got money too But the process of being happy, lasted for a few months or for a few years !! Then we start to struggle to leave the same job; what was interesting there is over, then happiness was still in the same money & job..

temporary happiness resources.
.external source.
.lots of money.
.transportation, car,
.Luxurious house.
.Everyone's expectations towards us.
.Everyone tell you well.
.Stay motivated full time.

reason of demotivation !
.good expectations from others.
.Seeking your happiness in the happiness of others!
.To do the work you were not meant to do, to do the same work again and   again, force yourself, but in it, know that what you want to do is as big as you   give years of your life. Are you, and do Continuous!

external happiness source !
5.In the field where he is trying to find peace, but he is already in the field, he is competing to come out of it, how much Ajiv
The happiness for which I struggled for many years !! Then it came to his mind that he had to do what he had to do, now he will start trying to find happiness there ... where he will feel that where he can find happiness Actually there is no happiness there, but all are living a simple life.

6. Are those people really happy, who are happy to see, in fact, it is not so, where they are looking, they reached there too, they got the job here, they got less happiness here than the first Bali job as they ignored it. It was, but this time the condition has become thin in a few months, he felt uncomfortable here too, did not find comfort, now where will such a person wander in search of happiness, This is his external happiness source !

.motivation!
. Stay away from someone who breaks your morale!
. Read the inspiration books.
. Prepare Your Daily Work Framework!
. Listen to the audio book!
. Keep charging yourself!

.Internal source of happiness (extremely powerful)!
Start doing something.
We would all know one thing very well that this cannot always be motive Yes but it can be extended for sometime! Motivation can not be held for long, no such tool is made in this world, Motivation means the state in which brain relaxes & enters our body relay zone,so that the focus is on the goal. & to grow many times larger than our own ability, which is called extraordinary! There is no word here worrying! Because the direction is clear!
The Key Of Motivation.
.When Motivation comes from inside,it lasts for a long time, Internal Motivation only comes. When we can understand the difference between illusion and reality, then the vision is clear because what we believe may be just the imagination of the mind & a product of your brain, which can be demotivated by the sound of it, because you The difference between illusion and reality is not known, maybe the person who is understanding demotivation can do the work of motivation for you, it is very important to understand the difference between the two, come without understanding or Area until you can not face Failure, for which strength Chaiye they understand the difference between right and wrong!
When the mind and we knew very well that what we are doing is good for our society, human and nature, now here Motivation will support for a long time. Is, now it pays you what way they take.
. Start doing something !!
, Keep doing something, don't sit empty, don't miss the opportunity, if you are doing a job then do something in which you feel good, the mind relishes, it can be yours, passion, hobby is !! Gradually you too will be able to balance on inspiration, this too is a fact!
 If you understand this, the balance of motivation will be in your hand to some extent, internal motivation is many times more powerful than external motivation !!


हिंदी में !
The Key Of Motivation.

खुशी के उपकरण!
1  जब बचपन था तो सबसे ज्यादा टाइम हमारा खेलने में जाता था और शोर मचाने में शरारतें करना भूख लगी भी  हो तो खाना मिले चाहे ना मिले हमें बस खेलने से मतलब था बचपन में हैप्पीनेस आती कहां से थी! अगर  मम्मी, या पापा बोलते जाओ खेलने तो वहां खुश हो जाते थे लगता था कि सब कुछ मिल गया ! और खुश भी क्यों न हों आखिर में हमें  वो  मिल गया  जिसका हमें हर सुबह इंतज़ार रहता था ,और जो भी है यही है "है ना" किसी दोस्त से झगड़ा भी हो जाता तो ज्यादा देर तक टिक नहीं पाता था और फिर से खुश होकर आगे बढ़ जाते थे इंसान जब खुश होता है तो कभी-कभी ऐसे कमिटमेंट कर देता है जो नहीं करना चाहिए फिर उसको पकड़ कर रोता रहता है! धीरे धीरे हमारा दिमाग  विकसित किया ,समझ शक्ति बड़ी और समझदारी की दुनिया की ओर चल पड़े !!

2 अभी के इंसान की सोच  खुशी को लेकर बहुत ही क्रिटिकल होती जा रही है,इसका कारण हम वहां खुशी ढूंढ रहे हैं , जहां खुशी है ही नहीं है अगर है भी तो वो टेंपरेरी है इंसान खुशी को ढूंढता भी कहां है ? पहला कारण है ,वह है पैसा, दूसरों के हिसाब से चलना फिर वही इंसान अगर कहे  ''you are the best "अब उसी को सोच सोच के खुश होते रहना ,उसी में खुश हो जाना और अच्छी गाड़ी, मकान, अच्छी नौकरी , दूसरों के एक्सपेक्टेशन पर अपनी नहीं उनकी जिनसे उनका दूर-दूर तक कोई वास्ता नहीं है  उसपे खरे उतरने ने की कैसिस करना कहीं कहीं  इतना जरूरी भी नहीं होता है लेकिन फिर भी हम करते हैं ! ,,ये भी  खुशी के सोर्स है लेकिन टेंपरेरी ,,, "फॉर एक्साम्प्ल" कोई क्रिटिकल कंडीशन आ गई पैसे से रिलेटेड और आपको पैसे मिल गए तो इसमें खुश होना बनता है!!!

3. कई इंसान अच्छी जॉब को पाने के लिए कई सालों से मेहनत करते रहते हैं और बोलते रहे हैं, जब अच्छी जॉब मिल जाएगी तो मैं खुश हो जाऊंगा पैसे मिल गए तो पूछ सो जाऊंगा गाड़ी ले ली तो खुश हो जाऊंगा और हैप्पीनेस एक हद तक एक्सपेंड होती जाती है!!मान लीजिए जॉब मिली पैसे भी मिल गए तो बहुत देर तक खुशी रहेगी जब जॉब रोज  जाओगे तो खुशी तो मिलेगी ,बहुत अच्छा फील होता है क्योंकि जो हमारा मुख्य लक्ष्य था वह पूरा हो गया और जो उम्मीद थी अपने से वह पूरी हो जाती हैं माइंड रिलैक्स फील करने लग जाता है क्योंकि नया संस्कृति, नया वातावरण, नए लोग , नई सोच ! और सुखद जिंदगी ! कुछ एक या 2 महीने तो कम से कम हमें अच्छा लगता है काम करने में मजा आता है , क्यूंकि बहुत समय से जो mindset बना रखा था  वही मिल गया !! फिर वही सब जिसकी वजह से आप खुश हो रहे थे वही धीरे-धीरे आदत  में बदल जाता है!!

4.और फिर वही रूम वही ऑफिस और वही बॉस फिर कई सालों तक जॉब की फिर उसी जॉब से बोर होने लग जाते हैं जिसके लिए कई सालों से यही सोचकर दुखी होते रहे कि जब जॉब मिल जाएगी पैसा मिल जाएगा तब खुश हो जाऊंगा जॉब भी मिल गई पैसे भी मिल गए लेकिन ये  खुश होने का सिलसिला कुछ महीने तक चला या कुछ साल तक चला !! फिर हम उसी नौकरी को छोड़ने के लिए स्ट्रगल करने लगते हैं वहां जो दिलचस्प था वह खत्म हो जाता है अभी खुशी तो उसी पैसों और जॉब में थी !!

अस्थायी खुशी के संसाधन।
. वाह्य स्रोत।
. बहुत सारा पैसा।
. परिवहन, कार,
. शानदार घर।
. सबकी उम्मीदें हमारे प्रति।।
. हर कोई आपको अच्छा बताये .
. पूरे समय प्रेरित रहें।

विध्वंस का कारण!
.दूसरों से अच्छी उम्मीदें!
.किसी और की ख़ुशी में अपनी ख़ुशी की तलाश करना !
.जिस काम को करने के लिए आप बने ही नहीं उसी काम को बार बार करने के लिए अपने आप को फाॅर्स    करना, फाॅर्स करो  लेकिन उसमे ये जान लो की आप जो करना  चाहते हो क्या वो उतना  बड़ा है जितना    आप अपने ज़िंदगी के सालों को दे रहे हो,और कॉन्टिनियस करो !

बाहरी खुशी का स्रोत!
5. उस फील्ड में जहाँ वो  सुकून   ढूँढ़ने की कोशिश कर रहा  है,लेकिन पहले से उस फिल्ड में है वो   उससे बाहर आने  की होड़ में लगे हैं , है न कितना अजीव""
 जिस खुशी के लिए कई सालों स्ट्रगल किया !!तभी उसके दिमाग में आ गया जो करना था वो तो कर लिया ,अब वो ख़ुशी को वहाँ ढूँढ़ने की कोशिश में लग जायेगा.... जहाँ  उसको ये अनुभव होगा कि वो जहाँ  खुशी तलाश कर रहा है असल  में वहाँ ख़ुशी है ही नहीं , वल्कि  सभी सीधी  सी सिंपल लाइफ जी रहे हैं!!

6.क्या असल में वो लोग भी खुश है जिनको देख के खुश हो रहे हो असल में ऐसा नहीं है जहाँ ,ढूंढ रहे हो,वो वहाँ भी पहुँच गया उसने यहाँ भी पा ली जॉब  पहले बाली जॉब से यहाँ कम ख़ुशी मिली जितना कि उसने उपेक्षा  की थी,,लेकिन इस बार तो कुछ  महीने में ही ही हालत पतली हो गयी , उसे यहाँ भी असुविधाजनक लगा सुकून नहीं मिला ,अब ऐसा इंसान कहाँ खुशी की तलाश में भटकेगा ,ये उसके एक्सटर्नल हैप्पीनेस सोर्स हैं!!!

.प्रेरणा !
.आपके मनोबल को तोड़ने वाले से दूर रहें ! 
.प्रेरणा किताबें पढ़ो। 
.अपना रोज़ के काम का फ्रेमवर्क तैयार करो ! 
.ऑडियो बुक सुनो !
.अपने आपको चार्ज उप करते रहो !

.खुशी का आंतरिक स्रोत (अत्यंत शक्तिशाली) !
हम सब एक बात अच्छे से जान लेते कि हमेशा मोटीवेट नहीं रह सकते यही सत्य है! हाँ लेकिन उसको कुछ समय के लिए बढ़ाया जा सकता है !! मोटिवेशन को ज्यादा समय तक रोक के नहीं रखा जा सकता ऐसा कोई भी टूल इस दुनिया में नहीं बना है , मोटिवेशन मतलब जिस अवस्था में दिमाग रिलेक्स फील करता और हमारी बॉडी रिलेक्स जोन में प्रवेश कर जाती है, जिससे की  लक्ष्य पर ध्यान केंद्रित करते है और अपनी छमता से कई गुना बड़ा कर जाना जिसे असाधारण बोलते है ! यहाँ  फिक्र नाम का कोई शब्द मौजूद ही नहीं है ! क्यूंकि दिशा साफ है!!


. मोटिवेशन जब अंदर  से आता है ,वो लम्बे समय तक टिक पाता है , इंटरनल मोटिवेशन तभी आता है !
जब हम भ्रम और वास्तविकता में फर्क समझ सकते हों ,तो दृष्टि साफ होती है क्युकी जो हम मान रहे है हो सकता है वो सिर्फ दिमाग की कल्पना हो & आपके  दिमाग की एक उपज हो , जिसकी बजह से डेमोटिवटेड भी हो सकते है, क्यूंकि आपको भ्रम और वास्तविकता में फर्क नहीं पता है  ,हो सकता जिसको डेमोटिवशन समझ रहे हो वो आपके लिए मोटिवेशन का काम कर जाये इसके लिए दोनों  में फर्क समझना बहुत ही आवश्यक है,  समझ के बिना आने वाले समय तक आप फैलियर का सामना नहीं कर सकते ,उसके लिए जो ताकत चाइये वो है सही और गलत में फर्क समझना!
जब दिमाग को और हमको ये अच्छे से पता होता की जो कर रहे वो हमारे लिए सोसाइटी, ह्यूमन और प्रकृति के लिए अच्छा है  अब यहाँ मोटिवेशन लम्बे  संमय तक साथ देगा  कुछ कुछ समस्या आएँगी ही जिसकी वजह से  डेमोटिवशन आयेगी ही ये तथ्य (fact ) है ,अब ये आप पेडिपेंड करता है की आप उसको किस तरह लेते हैं
. कुछ करना शुरू करो !!
, कुछ न कुछ करते रहो खली मत बैठो , अवसर मिले उसे मत गवाओ, अगर आप नौकरी कर रहे हो तो कुछ न कुछ ऐसा जरूर करो जिसमे आपको अच्छा लगता हो दिमाग रिलेक्स मेहशूश करता हो ,,वो आपका, पैशन, होब्बी भी हो सकता है !! धीरे धीरे आप भी प्रेरणा पर संतुलन बना पाओगे , ये भी (fact ) है !
 इसको समझ लिया तो कुछ हद तक मोटिवेशन का संतुलन आपके हाथ में होगा ,बाहरी प्रेरणा से आंतरिक प्रेरणा कई गुना ज्यादा पॉवरफुल होती है!!
                                       

                                          you can do it...
The Keys Of Motivation.


Post a Comment

0 Comments